बिजली संकट पर सीएम हेमंत सोरेन ने कहा जल्द दूर होगी समस्या विभाग को दी जाएगी अतिरिक्त राशि

बिजली संकट पर सीएम हेमंत सोरेन ने कहा जल्द दूर होगी समस्या विभाग को दी गई अतिरिक्त राशि.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य में भारी गर्मी और देशभर में जारी बिजली संकट के बीच झारखंड में भी बिजली संकट की स्थिति उत्पन्न हुई है. लेकिन बिजली की कमी न हो, इसके लिए अतिरिक्त बिजली जेबीवीएनएल खरीदेगा. राशि स्वीकृत कर दी गयी है.

डीवीसी-एनटीपीसी को भुगतान के लिए 1690 करोड़ मंजूर, सीएम बोले- जल्द दूर होगा संकट,मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा है कि राज्य में बिजली संकट पर उनकी नजर है। ऊर्जा विभाग को सस्ती दर पर बिजली खरीदने के लिए पैसे दिए गए हैं। जल्द ही बिजली संकट पर काबू पा लिया जाएगा।

डीवीसी अपने कमांड एरिया में 600 मेगावाट बिजली की आपूर्ति करता है. कमांड एरिया से बाहर के लिए डीवीसी से अतिरिक्त 50 मेगावाट बिजली जेबीवीएनएल खरीदेगा. ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव अविनाश कुमार ने बताया कि यह बिजली मंगलवार की रात से ही खरीदी जायेगी. सरकार ने राशि स्वीकृत कर दी है. अतिरिक्त बिजली भी खरीदने की व्यवस्था हो रही है. उन्होंने कहा कि पूरे देश में बिजली की भारी कमी है.

Read More-महेंद्र सिंह धोनी की पत्नी साक्षी सिंह ने झारखंड में हो रहे बिजली संकट पर सरकार से पूछा सवाल..

सीएम ने कहा कि गर्मी में कई समस्याएं अचानक पैदा हो जाती हैं। मशीन को भी बहुत अधिक लोड नहीं दिया जा सकता। उसे भी रेस्ट की जरूरत है।जबरदस्ती करने पर मशीन भी महीनों की समस्या खड़ी कर देती है। बिजली समस्या पूरे देश में है। बाजार में भी बिजली उपलब्ध नहीं है।

ऊर्जा विभाग को अतिरिक्त पैसा दिया जा रहा है, ताकि बिजली खरीद सके। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों 20 रुपए प्रति यूनिट तक बिजली खरीदी गई है। कई बार तो खरीदी गई बिजली की उपयोगिता भी नहीं रह पाती और पैसा व्यर्थ में व्यय हो जाते हैं।

Read more-अलर्ट: राज्य में तीन दिनों तक इन जिलों में चलेगी लू ,मौसम विभाग जारी की चेतावनी

बिजली संकट के यह कारण है..
प्लानिंग की कमी: कोविड के बाद आर्थिक गतिविधियां बढ़ने, अप्रैल में ही मई जैसी गर्मी व बिजली की मांग का आकलन नहीं कर पाए। सस्ती बिजली के लिए पावर परचेज एग्रीमेंट भी नहीं किया।

2. रूस – यूक्रेन युद्धः युद्ध के कारण आयातित कोल-गैस महंगा होने से कई पावर प्लांट बंद हो गए। देश में बिजली उत्पादन घट गया।

3. महंगी बिजली: उत्पादन घटने व मांग बढ़ने से पावर एक्सचेंज में बिजली महंगी हो गई। महंगी बिजली लेने की जगह बिजली कटौती शुरू की।

Read More-ससुराल वालों ने पत्नी की नही की विदाई, तो पति साली के साथ हुआ फरार फिर हुआ ये..

Share Now

Leave a Reply

%d bloggers like this: